आकर्षण के सिद्धांत को समझने के लिए अपने विचार को समझें | how to understand the secret

नमस्कार दोस्तों इस article में आज मैं बताऊँगा , आकर्षण का सिद्धांत के लिए अपने विचारों की freequency कैसे बदल कर कोई भी चीज आकर्षित करने के लिए तैयार कर सकते है । how to understand the secret.

अब इतना तो हम सब जानने लगे हैं कि हमारा वर्तमान जीवन हमारे पुराने विचारों का प्रतिबिंब है ।  इसमें जो भी अच्छी हैं और उतनी अच्छी भी नहीं है ।

अगर हम लोग अपने दिमाग में अटूट विश्वास के साथ यह सोच ले कि हम क्या चाहते हैं , और उसे अपना प्रबल विचार बना ले तो वह चीजें हमारे जीवन में अवश्य प्रकट हो जाएगी ।यह आकर्षण का सिद्धांत 5 सरल शब्दों में बताया गया है। “विचार, वस्तु , बन, जाते, हैं”

विचार वस्तु बन जाते हैं इस सबसे शक्तिशाली नियम से हमारे विचार हमारे जीवन की वस्तुओं के रूप में प्रकट हो जाती हैं। विचार वस्तु बन जाते हैं यह सूत्र अपने जीवन में बार-बार दोहराए …
कहीं घूम रहे हैं तो… सफर में है तो …घर पर हैं तो…
आप किसी भी जगह हो सकते हैं इसे बार-बार दोहराते रहें और उसे अपनी चेतना तथा अपनी जागरूकता में उतर जाने दे!
और होगा यह… वह अपके जीवन में दिखने लगेगी और आपके विचार वस्तु बन जाएंगे।

कोई भी चीज आकर्षित कैसे होता हैं?

हममें से ज्यादातर लोग यह नहीं जानते हैं कि हमारे अंदर चल रहे विचार की एक फ्रीक्वेंसी होती है। और हम उस विचार कि फ्रीक्वेन्सी को माप सकते हैं।

यही विचार फ्रीक्वेंसी चबंकीय के होते हैं हम लोग जो भी सोचते हैं वह फ्रीक्वेंसी तत्काल पूरे ब्रह्मांड में चले जाते हैं ।और चुबंक की तरह उस जैसी चीजें को विचार को हमारी तरफ आकर्षित करता है।
Untitled 1 Recovered

किसी भी स्रोत से भेजी गई चीजें उस स्रोत तक वापस लौटती है और हम यहां लगातार बातें विचार की कर रहे हैं जो आपके विचार स्रोत की हैं और वह स्रोत आप हैं

प्रबल विचार या मानसिक दृष्टिकोण जो अपने अंदर लगातार कल्पना करते हैं वह चुबंक हैं नियम यह है कि समान चीजें समान चीजों को आकर्षित करती है परिणाम स्वरूप मानसिक दृष्टिकोण हमेशा अपनी प्राकृतिक के अनुरूप स्थितियों को आप की ओर आकर्षित करेगा।

हम अपने विचार को और आसानी से समझने के लिए इस तरह सोचे !

अपने विचार को और आसानी से समझने के लिए इस तरह से सोचे
मान लीजिए किसी टेलीविजन स्टेशन का एक टावर होता है जिसे ट्रांसमिशन टावर कहते है। और वह टावर खास तरह के फ्रीक्वेंसी पर प्रसारण करता है और वह फ्रीक्वेंसी चारों तरफ फैल जाती हैं।
जो हमारे टेलीविजन में तस्वीर में बदल जाती हैं और वह अलग अलग चैनल की अलग अलग फ्रीक्वेंसी छोड़ती रहती है।
सच तो यह है कि हम में से ज्यादातर यह नहीं जानते हैं कि यह कैसे होता हैं। लेकिन हम इतना तो जरूर जानते हैं कि हर चैनल की एक फ्रीक्वेंसी होती है। और जब हम उस फ्रीक्वेंसी पर चैनल सेट करते हैं तो हमें अपने टेलीविजन पर तस्वीरें दिखने लगती है।
तो हम चैनल सुनकर फ्रीक्वेंसी चुनते हैं फिर इसके बाद हमें उस चैनल पर प्रसारित होने वाली तस्वीरें मिलती हैं।

अगर हम लोगों को अपने टेलीविजन पर अलग तस्वीरें देखना होता है तो हम चैनल बदल देते हैं और उसे दुसरे फ्रीक्वेंसी पर सेट कर देते हैं हम उसे देखने लग जाते हैं

इसी तरह आप मानवीय ट्रांसमिशन टावर हैं और इस धरती पर बने किसी भी टेलीविजन टावर से ज्यादा शक्तिशाली हैं।आप ब्रह्मांड के सबसे शक्तिशाली ट्रांसमिशन टावर हैं आपका ट्रांसमिशन आपके जीवन और संसार की रचना करता है। हमारे द्वारा प्रसारित फ्रीक्वेंसी हमारे शहरों , देशों , संसार के पार पहुंच जाती हैं। वह पूरे ब्रह्मांड में गूंजने लगती हैं और उस फ्रीक्वेंसी को हम सब अपने ही विचार से प्रसारित कर रहे हैं ।

हमारे विचारों के प्रसारण से हमें जो तस्वीरें मिलती हैं वह हमारे घर के टेलीविजन स्क्रीन पर तो नहीं दिखाई देती हैं ।वह सारी तस्वीरें तो हमारे जीवन में दिखाई देती हैं। हमारा विचार ही फ्रीक्वेंसी सेट करते हैं।

उस फ्रीक्वेंसी पर मौजूद समान चीजें को आकर्षित करते हैं , और फिर हमारे विचारों को जीवन के तस्वीर के रूप में हमारी ओर प्रसारित कर देते हैं ।

अगर हम अपने जीवन के किसी रूप को बदलना चाहते हैं तो अपने विचार बदलकर चैनल और फ्रीक्वेंसी बदल सकते हैं और अपने जीवन में जो देखना चाहते हैं उसे उस पर सेट कर सकते हैं ।

निष्कर्ष:

19 thoughts on “आकर्षण के सिद्धांत को समझने के लिए अपने विचार को समझें | how to understand the secret”

  1. Thanks for finally talking about > आकर्षण के सिद्धांत
    को समझने के लिए अपने विचार को
    समझें | How To Understand The Secret » Hindi Pc < Loved it!

    Reply
  2. Have you ever considered writing an ebook or guest authoring on other
    sites? I have a blog centered on the same ideas you discuss
    and would love to have you share some stories/information.
    I know my viewers would appreciate your work. If you are even remotely interested, feel free to send me
    an e-mail.

    Reply
  3. When I initially left a comment I appear to have clicked the -Notify me when new comments are added- checkbox and from now on each time a comment is added I receive four
    emails with the same comment. Is there a way you can remove me from that
    service? Many thanks!

    Reply
  4. Hello there! This is my 1st comment here so I just wanted to give a quick shout out and say I genuinely enjoy reading through your posts.
    Can you suggest any other blogs/websites/forums that deal with the same topics?

    Thanks a lot!

    Reply
  5. When someone writes an piece of writing he/she retains
    the image of a user in his/her brain that how a user can understand it.
    Therefore that’s why this paragraph is perfect. Thanks!

    Reply
  6. Nice blog here! Also your site loads up fast! What host are you using?

    Can I get your affiliate link to your host? I wish my site loaded up as fast as yours lol

    Reply
  7. I’m impressed, I have to admit. Seldom do I come across a blog that’s both educative and engaging,
    and without a doubt, you have hit the nail on the head. The
    problem is something that not enough people are speaking intelligently about.

    I’m very happy I stumbled across this during my search for something regarding this.

    Reply
  8. Hey there would you mind stating which blog platform you’re working with?
    I’m looking to start my own blog in the near future but
    I’m having a tough time deciding between BlogEngine/Wordpress/B2evolution and Drupal.
    The reason I ask is because your layout seems different then most
    blogs and I’m looking for something unique.
    P.S Apologies for getting off-topic but I had to ask!

    Reply
  9. I like the helpful info you provide for your articles.

    I’ll bookmark your weblog and test once more here regularly.
    I am reasonably certain I will learn plenty of new stuff right here!

    Best of luck for the following!

    Reply
  10. Hey there just wanted to give you a quick
    heads up. The words in your post seem to be running off
    the screen in Firefox. I’m not sure if this is a format
    issue or something to do with web browser compatibility but
    I figured I’d post to let you know. The design and style look
    great though! Hope you get the problem solved soon. Thanks

    Reply
  11. Hello I am so delighted I found your webpage, I really found you by
    accident, while I was researching on Google for something
    else, Regardless I am here now and would just like to say
    thank you for a remarkable post and a all
    round interesting blog (I also love the theme/design), I don’t have time to look over
    it all at the moment but I have saved it and also added in your
    RSS feeds, so when I have time I will be back to read a lot more,
    Please do keep up the superb work.

    Also visit my web site: CBD for dogs

    Reply
  12. Cool blog! Is your theme custom made or did you download it from somewhere?
    A design like yours with a few simple adjustements would really make my
    blog shine. Please let me know where you got your design. With thanks

    Reply
  13. I just like the helpful info you supply for your articles.

    I will bookmark your blog and take a look at again right here frequently.
    I am rather certain I’ll be informed many new stuff right here!

    Good luck for the next!

    Reply

Leave a Comment